जमानतीय एवं अजमानतीय ,संज्ञेय एवं असंज्ञेय अपराध

Bailable and non Bailable offence Cognizable non cognizable offence

0
233

जमानतीय अजमानतीय अपराधजमानतीय एवं अजमानतीय अपराध

दंड प्रक्रिया संहिता 1973, के परिभाषा खंड धारा 2(a) में जमानतीय अपराध एवं अजमानतीय अपराध को परिभाषित किया गया है

Bailable offence (जमानतीय अपराध):-
ऐसे अपराध जिन्हें जमानतीय घोषित किया है ।
(A)प्रथम अनुसूची में या
(B)तत्समय किसी अन्य प्रवृत्त विधि में

*न्यायालय एवं पुलिस दोनों जमानत पर छोड़ सकते है,अगर व्यक्ति जमानत देने को तैयार हैं तो
*प्रतिभूति सहित या रहित हो सकेगी

*जमानत का व्यक्ति को अधिकार ।

*दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 436 में जमानत की अर्जी न्यायालय में लगा सकता है।

Non Bailable offence ( अजमानतीय अपराध):-
ऐसे अपराध जिन्हें अजमानतीय घोषित कर रखा है
(A)प्रथम अनुसूची में या
(B)तत्समय किसी अन्य प्रवृत्त विधि में

*यदि अपराध मृत्यु,आजीवन कारावास,पूर्व दोषसिद्धि ,से संबंधित तो जमानत नहीं

* न्यायालय का विवेकाधिकार
*दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 437 में अर्जी न्यायालय में लगा सकता है।

संज्ञेयअपराध और असंज्ञेयअपराध से आप क्या समझते हैं?

भारत में अश्लीलता(पोर्नोग्राफी) संबंधी कानून Pornography related laws in india

संज्ञेय एवं असंज्ञेय अपराध

दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 2 परिभाषा खंड में संज्ञेय और असंज्ञेय अपराध को परिभाषित कर रखा है।

धारा:-2(c):-संज्ञेयअपराध(Cognizable offence)

ऐसे अपराध जिन्हें ने संज्ञेयअपराध घोषित किया है –
(A)प्रथम अनुसूची में या
(B) किसी अन्य प्रवृत्त विधि में

* पुलिस अधिकारी बिना वारंट के गिरफ्तार कर सकता है

इसमें कठोर प्रवृति के अपराध आते है जैसे हत्या,बलात्कार,मानव वध,इनका प्रयास आदि।

धारा:-2(L):-असंज्ञेयअपराध(non-cognizable offence)

ऐसे अपराध जिन्हें असंज्ञेयअपराध घोषित किया है
(A)प्रथम अनुसूची में या
(B)किसी अन्य प्रवृत्त विधि में

*पुलिस अधिकारी बिना वारंट के गिरफ्तार नहीं कर सकता है।

साधारण प्रवृति के अपराध आते है ।

अगर आपको यह पता करना है कि संज्ञेय अपराध कौन से हैं तो आपको दंड प्रक्रिया संहिता (CrPC 1973) की अनुसूची 1 देखनी होगी जिसमें हत्या, बलात्कार, दहेज़ हत्या, अपहरण, हत्या का प्रयास करना आदि को संज्ञेय अपराध की सूची में रखा गया है।